हिना ने अपनी चुत चुदवाई मकई के खेत में

दोस्तों नमस्कार ये कहानी मेरे कॉलेज की मस्त लड़की जिसका नाम हिना है और में उसके नुकीले बूब्स कभी नहीं भूल सकता। कालेज के दिनों में मेरे साथ पढ़ने वाली हिना के बूब्स देख कर के लड़के आह भरते थे और हमारी कॉलेज के अध्यापक मूठ मारते थे। हमारी कॉलेज की टॉइलेट की दीवालें हिना को चोदने की कल्पनाओं से भरी रहती थीं। सच तो ये है कि हिना मेरे गाँव से ही कालेज जाती थी। और अक्सर वो शाम को बस पकड़ के कालेज जाती थी। आईये आपको हिना के जिस्म की पूरी भूगोल समझा दें। 34 के नुकीले बूब्स, 36 की गांड 28 की कमर। पूरा जिस्म गठा कमाल का, लबालब रस चूता होठो से और शायद उसकी भाव भंगिमाएं देख कर यही लगता था कि उसके चूतड़ से भी रस लगातार टपकता रहता होगा।

सच तो ये है कि वो ह्मेशा अपने चूतड़ के नीचे रूई का गद्दा लगा के रखती थी जिससे कि उसकी जींस न भीग जाएं। ये बात मुझे उसकी एक सहेली ने बताई थी और जब मुझे उसे चोदने का मौका मिला तब मैं इसे जान पाया।तो बात है ठंड के दिनों की जब मैं अपने बाइक से कालेज गया हुआ था और उस दिन शाम के पांच बजे कोहरा छा गया था। इस हाल में शाम को वापस आते समय बहुत अंधेरा हो गया था। हिना अपने बस स्टाप पर खड़ी होकर बस का प्रतीक्षा कर रही थी, पर बस नहीं आई। आज मैं उसका पीछा करने के मूड में था। बह्हुत देर हो गयी तो मैने उसको लिफ्ट आफर किया। वो खुश होकर के बैठ गयी और मैने बाइक की गति बढा दी। हिना ने मेरे कमर को जोर से कसकर पकड़ लिया था। ठंड का मौसम हवाएं सन्न सन्न चल रही थी। इसलिए हिना ने मुझे पीछे से पकड़ कर मेरे पीठ को एयर टाईट कर दिया। हिना के नुकीले बूब्स मेरी पीठ से रगड़ कर रहे थे।

मैने देखा कि इतनी कड़ाके की ठंड में भी हिना की पकड़ और चूंचे की चुभन से मेरे पसीने छूट रहे थे। ओर एक तरफ मेरा लण्ड खड़ा हो गया था तो में अपने अप्प को कण्ट्रोल नहीं कर पा रहा था । मेरा जींस पहले से ही टाइट था। मेरे दिमाक में आईडिया आया की अगर में कही सुनसान जगह पे बाइक रोक दू और जबरदस्ती हिना को चोद दू तो।  लेकिन मुझे वह सही नहीं लगा फिर थोड़ी देर बाद मुझे पेशाब आया तो मेने साइड में बाइक खड़ा की तो मैंने देखा की बड़े बड़े मकई के खेत थे हिना ने मुझसे पूछा की क्या हुआ तो मेने कहा की मुझे पेशाब आ रहा है और में खेत के अंदर चल गया जहा हिना मुझे न देख सके और में पेशाब करने लगा।  इतने में तो दोस्तों मेरी किस्मत खुल गई हुआ यु की दोस्तों में पेशाब कर रहा था। तो हिना मेरे पीछे आके अपना जींस खोल के अपनी चुत में ऊँगली डाल के सेक्सी आवाज़ निकाली। में अपना लण्ड पकड़ कर मूत रहा था तो में लण्ड पकडे हुए पीछे की तरफ मुड़ा तो हिना ने जल्दी से मेरे लण्ड को अपने हातो में पकड़ लिया.

उस टाइम हम दोनों चुदासी मूड में थे। तो मेने हिना को कहा डार्लिंग रुको थोड़ा और अंदर की तरफ जाते है तो हिना बोली ओके जानु फिर मेने हिना को बाहो में उठाया और खेत के बीचो बिच ले गया। अब मजा ही मजा था। हिना की जींस पहले से नीचे सरकी हुई थी। मूत से सनी गीली चूत को मैने अपने खड़े लंड से रगड़ा तो वो और भी गीली हो गयी। हिना का ग्रीस चुत से बाहर टपक रहा था। चूत चुदने के लिए चिकनी हो रही थी। हम दोनों खड़े खड़े थे। मैने उसके नुकीले बूब्स को नंगा किया और अपने मुह में लगा कर के चाटने लगा। हिना ने मेरे लंड को पकड़ कर के अपने चूत के चूतड़ों के उपर रगड़ना शुरु किया तो मेरा लौड़ा फनफना के उसकी चूत में घुसने को होने लगा। मैने उसके कमर को पकड़ कर के अपनी तरफ खींचा और उसने अपनी चूत को मेरे तने सीधे लन्ड की दिशा में कर दिया। और मेरा लण्ड तन्न से अंदर घुस गया । फिर क्या मजे मजे में मेरा मोटा लंड उसकी गीली चूत के गिरफ्त में था और मेरे मुह में उसके कड़क कड़क नुकीले बूब्स। लिंग प्रवेश के बाद मैने एक हाथ से उसकी कमर पकड़ी और एक हाथ से उसका दायें बूब्स को।

मस्त काले निप्पल को मसलते हुए मैने अपना लंड अंदर धकेल दिया और घचर पचर अंदर बाहर करने लगा। मकई के पौधे हिलने लगे, उपर नीचे दायें बाये। मस्त चूंचे की रगड़ के साथ ही हिना की मस्ती चढती जा रही थी। मैने चोदने के साथ ही उसके बूब्स बदल बदल के चूसने जारी रखे। में उसे फाका फक गच्चा गच उसकी चुत चोदने के साथ साथ मेने उसकी प्यारी से गांड में ऊँगली डालने लगा और मेने उसकी गांड में ऊँगली दाल दिया। गाँड में अंगुली जाने के साथ और चूतड़ में मोटे लंड के घुसेड़ ने से बूब्स चूसे जाने पर हिना की जवानी एकदम मस्तानी हो गई और वासना के ज्वार में घुलती जा रही थी। हिना को चढती मस्ती के साथ हिना अपने मुह से कामुक आवाजें आईई ऊउ आह्ह आह्ह फक मी चोदो मुझे चोद दो और तेज चोदो। मजे से चोदो आह्ह मजा आ रहा है। प्लीज चोद दो और मुझे जोरदार चोद दो।

मैने हिना को अब पीछे की तरफ घुमा के पीछे से उसकी चूत में लंड घुसेड़ कर के चोदना शुरु किया और हिना के दोनों बूब्स पकड़ लिए। अब पीछे से उसकी चूत में चोदते हुए मैने एक हाथ से, हिना की बूब्स को मसलते हुए जोरदार चोदते हुए गालियां दे रहा था। ले साली रंडी फाड़ अपनी चूत मिटा अपनी वासना, चुदास। कुतिया कही की। और हिना कह रही थी, चोद भड़वे, माधरचोद, जोरदार चोद मुझे तेरे लंड में इतना ही दम है क्या। आह्ह और मेरा लंड एक दम उत्तेजना के चरम पर पहुंच चुका था। अब मैने अपने लंड को जोरदार झटकों के साथ किनारा कर के हर कोने में चोदना शुरु किया। हिना अब गांड उठा उठा के लंड को हर कोने में लेने का मन कर रहा था। हिना मस्त मग्न होकर के वो चुदाए जा रही थी। अब मेरा लंड एक दम फनफना के पचपचाने वाला था। मेरे पेट की नसें सिकुड़ने लगी थी। मैं झड़ने वाला था। इससे पहले कि काम बिगड़े मैने अपना लंड बाहर निकाला और हिना के मुह और बूब्स पर वीर्य का छिड़काव कर दिया।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (58 votes, average: 3.69 out of 5)
Loading...

Leave a Reply