भाभी को बनाया अपनी गर्लफ्रेंड

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम सचिन है | मैं आज सेक्सी कहानी के दीवानो के लिये अपनी एक कहानी को लेकर आया हूँ | मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने प्रस्तुत करने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी हैं | दोस्तों ये मेरी पहली कहानी है तो मैं आप लोगो से आशा करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी अगर आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आती हैं तो मैं अपनी अगली कहानी आप लोगो तक पहुचाने का प्रयास जरुर करूँगा | अपनी कहानी को आगे बढ़ाने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ | मैं रहने वाला कोलकाता के पास एक छोटे शहर का हूँ | मेरी उम्र 24 साल है और मैं दिखने में बहुत गोरा हूँ जिससे मैं स्मार्ट भी बहुत लगता हूँ | मेरी हाईट 6 फुट 3 इंच है मेरी हाईट के साथ मेरी बॉडी भी ठीक ठाक है | दोस्तों मुझे मेरे मोहल्ले के लोग स्मार्ट बॉय कहते हैं और मैं अभी तक बहुत लड़कियों की चुदाई कर चूका हूँ | मेरी गर्लफ्रेंड भी बहुत बन चुकी हैं जिनमे से मैंने ज्यादा तर लड़कियों को चोद कर ही छोड़ा है | मैं अब आप लोगो का ज्यादा टाइम न बर्बाद करते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ |

ये कहानी अभी कुछ दिन पहले की है | इससे पहले मेरी एक गर्लफ्रेंड थी जिसका नाम नेहा था | वो दिखने में गोरी थी और बहुत सेक्सी | उसके बूब्स काफी बड़े थे और गेंद की तरह एकदम गोल थे | मैं उसकी गांड को बहुत पसंद करता था क्यूंकि उसकी गांड बहुत ज्यादा सेक्सी थी | मैं उसे बहुत बार चोद चूका था और वो मेरे घर के कुछ दुरी पर अब भी रहती है | उसका घर मेरे यहाँ ही है | दोस्तों मैं जो भी नेहा के साथ करता था तो अपनी भाभी को बता देता था | मेरी और भाभी की अच्छी बनती थी और मैं भाभी से दोस्त की तरह बात करता था इसलिए मैं अपनी भाभी से कोई भी बात होती तो मैं बता दिया करता था | मेरी भाभी मेरी और नेहा की एक एक बात जानती थी | अगर मैं नेहा को किस भी करता था तो भाभी को बता देता था जिससे मेरी भाभी मुझसे बहुत खुश रहती थी | पर नेहा ने मुझसे कहा था तुम ये बाते किसी को

नही बताओगे पर मैंने सारी बाते भाभी को बता दी थी | एक दिन की बात है जब नेहा से मेरी भाभी ने ये बाते बता दी और नेहा ने मुझे फ़ोन किया और कहा मुझे तुमसे अभी मिलना है | मैं जब उससे मिलने गया तो उसने मुझसे कहा की तुमने मेरी और अपनी बाते भाभी को क्यूँ बताई | मैंने कहा अरे ठीक है हो गया अब नही बताऊंगा पर वो अब मुझसे कोई रिश्ता ही नही रखना चाहती थी और उसने मुझसे ब्रेकअप कर लिया | उस दिन से मैंने उससे बात करने की बहुत कोशिश की और वो मेरी कोई भी बात न सुनते हुए बोली मुझे तुमसे कभी बात नही करनी |

फिर मैं जब घर गया तो भाभी से कहा तुमने कर दिया न फिर से मुझे अकेले |
भाभी – अरे क्या हुआ सचिन बहुत गुस्से में हो ?
मैं – और क्या भाभी तुमने वो बाते नेहा से बता दी और अब नेहा मुझसे बात नही करती है |
भाभी – तो क्या हुआ सचिन दूसरी लड़की पटा लो ?
तब मैंने भाभी से कहा अब तो मुठ मार कर ही काम चलाना पड़ेगा | वो मेरी ये बात सुनकर हंसने लगी | मैंने भी कह दिया हँसती क्या हो सच बोल रहा हूँ | तब वो मुझे कुछ भी नही बोली | उसके कुछ दिन की बात है जब मैं घर में था और भाभी अपने कमरे में सारी बदल रही थी |

मुझे पता था की भाभी सारी बदल रही है और मै तब भी उनके कमरे में घुस गया और उनको पेटीकोट और ब्रा में देख लिया | वो कुछ देर में वो भी निकल दिया और दुसरे कपडे पहनने लगी | सायद वो मुझे नही देख पाई थी और मैं उनके गुलाबी जिस्म को घुर घुर कर देख रहा था | मैं उनको ऐसे देख कर अपने आप पर कंट्रोल नही कर पाया और जाके उनको अपनी बाँहों में भर लिया | वो मुझे देख कर चौंक गयी और मुझसे बोली रूको तुम्हारे भैया को आने दो उनसे कहती हूँ | मैं समझ गया की भाभी घुस्सा हो गयी है और मैं उन्हें मानाने लगा की भैया से मत कहना तुम जो बोलोगी मैं करूँगा | वो बोली तो ठीक है तुम मेरे बॉयफ्रेंड बन जाओ | दोस्तों ये बात जब भाभी मुझसे बोली तो मैंने मना किया और कहा की नही भाभी सच में मैं आज के बात कभी मजाक भी नही करूँगा | भाभी बोली मैं मजाक नही कर रही हूँ आज से मैं

तुम्हारी गर्लफ्रेंड बन जाती हूँ | मैं मन में बहुत खुश हो रहा था और कुछ देर बाद कहा हाँ और भाभी को अपनी बाँहों में भर लिया | जब मैंने उनको अपनी बाँहों में भर लिया तो वो मेरे लिपट कर चूमने लगी | मुझे लग रहा था की भाभी मुझसे चुदने के लिए तैयार थी | मैं जब उनको बाँहों में भरे हुआ था तो उनके बड़े और मस्त चिकने बूब्स बीच में दब रहे थे | फिर कुछ देर बाद भाभी ने अपनी होठो को मेरी होठो पर रख दिया तो मैं उनकी होठो को चूसने लगा | मैं उनकी रसीली होठो को चूसने के साथ उनके मस्त चिकने बूब्स को दबाने लगा | मैं उनके बूब्स को दबा ही रहा था की बाहर से भैया की आवाज आई तो भाभी अपनी साड़ी को सही किया और बाहर चली गयी |

फिर भैया ने भाभी को सामान दिया और भाभी काम करने लगी | उस रात तो मुझे कोई भी मौका नही मिला की मैं दुबारा भाभी के साथ मस्ती करता | दोस्तों अब मैं मौके के इंतजार में था की कब मुझे मौका मिले और मैं उस मौका का फायदा उठाऊं | उसके कुछ दिन के बाद की बात है जब मेरे भैया को भाभी ने कुछ काम से अपने माइके भेज दिया | उस रात मुझे और भाभी के पास पूरा मौका था चुदाई करने का और मैं उस मौके का पूरा फायदा उठाना चाहता था | जब मैं और भाभी खाना खा रहे थे तो मैं भाभी से मजाक करने लगा और मजाक में उनके बूब्स को दबा देता | मैं अब उनके साथ मस्ती करने लगा तो भाभी मुझसे बोली की खाना खा लो फिर करते हैं | मैं भी जल्दी से खाना खाकर तैयार हो गया |

फिर भाभी को अपनी बाँहों में भर लिया और हाथो में उठा कर कमरे में ले गया | मैं भाभी को कमरे में ले जाकर बेड पर लेटा दिया और उनको चूमने लगा | वो मेरा साथ देती हुई मेरे सर के बालो को सहलाने लगी | मैं कुछ देर तक ऐसे ही चूमता रहा और फिर उनके कपडे निकाल दिए | दोस्तों भाभी ब्रा और पैंटी में इतनी सेक्सी लग रही थी की मैं आप लोगो को बता नही सकता | मैं उनकी कमर को पकड कर लिपट गया और कमर में किस करने के बाद उनकी होठो पर अपनी होठो को रख कर उनकी होठो के रस को चूसने लगा | मैं उनकी होठो को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद | मैं उनकी ब्रा को खोल दिया और बड़े बूब्स को मुंह में रख कर जोर जोर से दबाते हुए चूसने लगा | वो हाँ उई हाँ उई हाँ…. यह यह हुई हुई… सी उई सी सी उई की सिसकियाँ लेती हुई चूसाने लगी | मैं उनके एक दूध को हाथ में पकड कर जोर जोर से चूस रहा था और एक दूध को मुंह में रख कर चूस रहा था | वो मस्त सिसकियाँ लेती हुई मज़े ले रही थी |

फिर मैंने अपने कपडे निकाल दिए और अपने लंड को हाथ में पकड कर हिलाते हुए भाभी के हाथ में पकड़ा दिया | वो मेरे लंड को थूक से गिला कर दिया और मैं उनकी गुलाबी चूत के मुंह पर रख कर घुसा दिया | मेरा लम्बा और मोटा लंड जैसे ही घुसा तो उनके मुंह से जोरदार सिसकियाँ निकाल गयी | मैं उनकी पतली कमर को पकड कर जोरदार धक्के मारने लगा | भाभी बिस्तर पर लेटी हुई चुदाई का मज़ा लेने लगी | मैं उनकी चूत में जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए उनको चोद रहा था और वो हाँ हाँ उई हाँ उई…. सी उई सी उई सी उई…. अह अह अह…. की सिसकियाँ लेती हुई चुदने लगी | मैं भाभी की चूत में जितने जोर से धक्के मार रहा था | भाभी के बूब्स उतने ही जोर जोर से हिल रहे थे | वो मस्त सेक्सी आवाजे करती हुई हर धक्के का मज़े लेती हुई चुद रही थी | मैं उनकी चूत में जितने ही जोर से धक्का मारता वो हर धक्के पर मस्त सिसकियाँ लेती | मैं उनको ऐसे ही कुछ देर तक चोदने के बाद उनको घोड़ी की तरह खड़े कर दिया |

फिर उनकी चूत में पीछे से लंड को घुसा कर जोरदार धक्के मारने लगा | मैं उनकी चूत में जितने जोर से धक्का मारता वो अपनी चूत को उतने ही जोर से चूत को आगे पीछे करती | मैं भाभी को ऐसे ही जोरदार धक्को के साथ चोदता रहा जिससे उनकी चूत से गर्म पानी की धार निकल गयी | उसके कुछ देर बाद मैं भाभी की गांड पर सारा माल निकाल दिया |
फिर मैं और भाभी ऐसे ही बिस्तर पर लेट गए क्यूंकि उस दिन घर मे कोई था नही तो हम दोनों को कोई डर भी नही था | दोस्तों ये थी मेरी कहानी मैं आशा करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | धन्यवाद……….

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *